Hacks to change your life ! in Hindi

Spread the love
आप अपने जीवन को जैसे चाहें वैसे बना सकते हैं । जिस परिस्थिति में चाहें उस परिस्थिति में अपने आप को ढाल सकते हैं । कितनी भी बड़ी समस्या हो आप उससे बाहर निकल सकते हैं । हम आज कुछ ऐसे ही विषय पर बात करेंगे जो आपकी ज़िन्दगी बदलने या अभी से बेहतर बनाने में आपकी बहुत मदद करेगा । ऐसे कुछ लाइफ हैक्स के बारे में बात करेंगे जिसको आप अपने जीवन में अपना कर अपने आप को दूसरों से बेहतर बना सकते हैं ।
 हैक़्स टू चेंज योर लाइफ 
            
                     ध्यान ( Meditation )
यह चीज लगभग सभी को पता है कि ध्यान करना चाहिए । इसको करने से मन शांत रहता है और किसी काम को करने में मन लगता है । यहां तक सभी को पता है लेकिन क्या आपने कभी ध्यान की ऊर्जा और शक्ति को महसूस किया है ? ज्यादातर लोगों का जवाब होगा नहीं । क्यूंकि ये बात तो सब जानते हैं कि ध्यान करना चाहिए लेकिन इसको बहुत से कम लोग ही अपने जीवन में करते हैं और वही लोग इसकी शक्ति और ऊर्जा को समझ पाते हैं । इसको करने से आप अपने आपको किसी भी परिस्थिति को स्थिर कर सकते हैं । आपकी सोचने ,समझने की क्षमता में बढ़ोतरी होती है । इसको करने का सबसे अच्छा समय है सुबह के 4 बजे से 6 बजे के बीच में ।  इसके ऊपर हम एक पोस्ट के द्वारा सारी जानकारी आपको देने का प्रयास करेंगे ।
       सुबह जल्दी उठना ( Wake Up Early )
यह बात कहने में जितना आसान लगता है उतना होता नहीं है । बहुत से लोग भोर में ही उठ कर अपने काम को करने में लग जाते हैं और ज्यादातर लोग सुबह ही देर से उठते हैं  और उनका काम हमेशा देर से ही होता है । यह जीवन बहुत कठिन है अगर आपको इसको बेहतर बनाना है तो आपको उसके लिए उतना ही परिश्रम भी करना पड़ेगा । अगर आप सुबह जल्दी नहीं उठा पा रहे हैं , तो आपका ज़िंदगी में कोई लक्ष्य निर्धारित नहीं हो सकता क्यूंकि जो इंसान अपनी नींद पर विजय नहीं पा सकता वो कहीं और कैसे पा सकता है । अगर आप सुबह जल्दी नहीं उठ पा रहे हैं तो आज से ही अपने आप को सुबह उठने के लिए मजबुर करें क्यूंकि शरीर का ही सुख सब सुख नहीं होता है , कुछ सुख मन का भी होता है । अगर आप सुबह जल्दी उठते हैं , तो आपको कोई काम करने में आसानी होती है । अंदर से आपको लगता है कि आपका हर काम पहले के बजाय जल्दी समाप्त हो जाता है। और पूरा दिन आपका ताज़गी से भरा हुआ रहता है।  यह चीज आप बस महसूस कर सकते है लेकिन किसी को बता नहीं सकते , तो आज से ही सुबह उठने की तैयारी में लग जाएं और अपने लक्ष्य को पाने की तैयारी करें । 
                      व्यायाम ( Exercise )
मैं लगभग हर बार आपको इस चीज को करने के लिए बोलता हूं कि व्यायाम किया कीजिए । आज मैं आपको इसके बारे में कुछ महसूस करता  हूं  । व्यायाम करने का कोई फिक्स समय नहीं होता , यह आपके इच्छा के ऊपर है कि आप इसे किस समय करते हैं । लेकिन एक बात आप जान लीजिए कि एक बात मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि अगर आप सुबह के समय सूर्योदय के पूर्व व्यायाम करते हैं तो जितनी खुशी आपको उस समय करने के बाद मिलेगी उतनी खुशी आपको शायद  सूर्योदय के बाद  ना मिले । इसमें होता कुछ यूं है कि आप जब सुबह जगते हैं तब आपका शरीर पूरी तरह शांत रहता है और मन भी पूरी तरह चिंताओं से मुक्त रहता है । उसके बाद ध्यान करते हैं फिर उसके बाद जब आप व्यायाम करते हैं तो आपके शरीर में हैप्पी हार्मोन्स निकलने लगते हैं और आपका शरीर फ्लेक्सिबल हो जाता है।  ये हार्मोन्स पूरे दिन  निकलते रहते हैं जिस कारण आप पूरे दिन ताज़गी और खुशी से भरे हुए रहते हैं । इसको करने से आप अपने उलझे हुए ज़िंदगी को सुलझाने में मदद कर सकते हैं ।  यह  केवल आपको सुनने में ही नहीं बल्कि आपके करने के बाद आपको जो महसूस होगा ना , वो खुशी शायद आप ही समझ सकते हैं कोई और नहीं । अद्भुत ।
                   वातावरण ( Environment )
वो स्लोक तो अपने सुना ही होगा “ संगत से गुड़ होत है , संगत से गुड़ जात ” अर्थात आप कैसे बनेंगे , आपकी सोच कैसी होगी , आपका व्याहर कैसा रहेगा , इत्यादि यह बात केवल और केवल आपकी संगति पर निर्भर करता है कि आप किस संगति में रहते हैं  । ठीक उसी तरह वातावरण होता है । आप जैसे वातावरण में रहते हैं वैसे ही आप बनते चले जाते हैं । वातावरण को आप दो तरीकों से कह सकते हैं पहला :-  इस प्रकृति को और दूसरा :- समाज के लोगों को । यह जरूरी नहीं कि आपको दोनों ही अच्छे मिले या दोनों ही बुरे मिले।  लेकिन अगर आपको पहली बार जो वातावरण अच्छा मिला होगा आपको दूसरा  वाला भी अपने आप ही मिल जाएगा क्यूंकि यह दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए हैं । मनुष्यों से प्रकृति है और प्रकृति से मनुष्य । अब यह आपको चुनना है कि आप को अपने जीवन को किस ओर लेके जाना है । अपने जीवन को बेहतर बनाना है कि बत्तर बनाना है ये आपके ऊपर है क्यूंकि यहां दोनों मिलते हैं । जब आप सुबह में जल्दी जगें तब आप एक काम करें की आप किसी ऐसी जगह घूमने या टहलने चले जाएं जहां ढेर सारे पेड़ – पौधे हों , ठंडी हवा चल रही हो और वहां जाकर आपको अपने लिए कुछ देर समय निकालना है । मोबाइल फोन ना लेके जाएं । वहां जाने के बाद आपको इस प्रकृति को महसूस करना है वहां के पेड़ पौधों के पत्तों को महसूस करे उन्हे छुए , उनकी कोमलता का आनंद ले । इसका पूरा तात्पर्य यह है कि आपको इस प्रकृति से जुड़ना है और अगर आप जितना जुड़ते चले जाएंगे , यह ज़िंदगी आपको उतनी ही खुशियों से भरी नजर आने लगेगी और आपको ज़िंदगी जीने में बहुत आनंद मिलेगा । और आप इस ज़िंदगी का खूब अच्छे से लुफ़्त उठा पाएंगे। चिंताओं से मुक्त , खुशियों से भरा । क्या ज़िंदगी होगी । अद्भुत । अगर आपको सुन के अच्छा लग रहा है तो सोचिए इसको करने में कितना अच्छा लगेगा । और अगर आप प्रकृति से जुड़ जाएंगे तो आपको समाज में भी अच्छे लोग ही मिलेंगे क्यूंकि बुरे लोगों के साथ रहना आपको अच्छा ही नहीं लगेगा तो आप अपने आप ही उन सब चीजों से दूर हो जाएंगे । 
               स्वस्थ भोजन ( Healthy Food )
अक्सर हम लोग यह भूल जाते हैं कि भोजन ही हमारे शरीर का ईंधन है और अगर ईंधन में ही मिलावट हो तो गाड़ी कैसे ठीक चलेगी या कार्य करेगी । उसकी प्रकार हमारा शरीर है ,  अगर  हमारे शरीर में मिलावट भरी चीज़े या इधर – उधर की चीज़े जाएंगी तो हमारा शरीर कैसे स्वस्थ रहेगा ? आज के दौर में यह सवाल सभी के मन में रहता है की ऐसा क्या खाएं की हम स्वस्थ रहें क्यूंकि लगभग आधे से ज्यादा लोग केवल अपने खान – पान में सुधार न होने के कारण बीमार पड़ जाते हैं । कुछ बीमारियों ऐसी है जो केवल आपके खान – पान में कमी करने के कारण या खराब खाना खाने के कारण संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है । जैसे कि टाइफाइड , इत्यादि । सभी के साथ आपको अपने खान – पान पर भी ध्यान देना पड़ेगा । जब आप सुबह उठते है तब आपको अपना सारा काम करने बाद मतलब व्यायाम करने के बाद , फ्रेश , ब्रश ,करने के बाद आपको एक मुट्ठी चना जरूर से खाना चाहिए और अगर आप चाहें तो उसने कुछ और भी मिला सकते है जैसे सोयाबीन ,  , किसमिस , बादाम इत्यादि और सेवन कर सकते हैं । आपको भोजन समय पर कर लेना चाहिए । भोजन  ग्रहण करने का  समय सुबह 9 बजे से पहले कर लें तो ज्यादा अच्छा रहता है और आप स्वस्थ भी रहते हैं । रात में बिना खाएं कभी भी ना सोएं । आपको कभी भी बासी खाने का सेवन नहीं करना चाहिए , इसको करने से टाइफाइड के साथ – साथ आपको फुड प्वाइजनिंग भी हो सकता है जिसके कारण आपकी मृत्यु भी हो सकती है।  हरे – भरे और स्वस्थ सब्जियों का सेवन करें और अपने भोजन के साथ कभी भी कॉम्प्रोमाइज मत करें अच्छा खाएं और स्वस्थ रहें ।
ऊपर में हमने जो भी चीज़े बताई हैं वो सब आजमाई गई नुस्खों में से है ।  अगर आप अभी तक इन सब में से कोई भी नुस्खों को नहीं अपना रहे थे , तो आज से ही इन सब को अपने जीवन में अपनाएं और अपने जीवन को बेहतर बनाएं ।  ज़िंदगी आपकी है और इसे खूबसूरत बनाना या ना बनाना आपकी मर्ज़ी है । इन सब नुस्खों को अपनाकर अपने ज़िंदगी को और बेहतर बनाएं । 
आपका बहुमूल्य समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत  धन्यवाद । यह जान कर आपको कैसा लगा  कमेंट करके जरूर बताएं । 🙏
धन्यवाद ….!

क्या आप जानते हैं ?
1- एक आकर्षित बॉडी का निर्माण कैसे करें ?
2- सफ़र में उल्टी क्यों होती है ?
3- कुछ लोग सफेद क्यों होते हैं ?

Vikash Dubey

Admin

4 thoughts on “Hacks to change your life ! in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error

Enjoy this blog? Please share from world :)